February 26, 2024
Hindenburg research kya hai
GK / Jobs

Hindenburg Research Kya hai | गौतम अडानी को बर्बाद करने वाला कौन है | Nathan Anderson कौन है, 2023

Hindenburg Research Kya hai: हिंडनबर्ग रिसर्च एलएलसी अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में स्थित (कार्यरत) शॉर्ट सेलिंग कंपनी है। जिसने 24 जानवरी 2023 को भारत के सबसे अमीर और दुनियां के तीसरे सबसे बड़े अमीर व्यक्ति गौतम अडानी के कम्पनी का जितना भी फ़्रॉड काम चल रहे थे उसका Hindenburg Research LLC ने कुल 114 पन्नो में पूरे विस्तार से एक रिपोर्ट में खुलासा किया है। जिसके बाद गौतम अडानी के साम्राज का पतन सुरु हो चुका है। और मौजूदा समय में गौतम अदानी वर्ल्ड के तीसरी रिचेस्ट आदमी से 21 नंबर पर पहुंच चुके हैं आगे क्या होने वाला है इसका अपडेट आपको हम देंगे तो अदानी ग्रुप का अब हाल क्या होगा यह आपके सामने होगा।

हेडलाईन

आइये समझते है, इस पूरे मामले को और इस हिंडनबर्ग रिसर्च का गौतम अडानी पर रिपोर्ट क्या है? Nathan Anderson कौन है? गौतम अडानी का कितना घाटा हुआ है? गौतम अडानी की कुल सम्पप्ति कितनी है? गौतम अडानी की एक दिन की कमाई? गौतम अडानी की कितनी कंपनी है?

What is Hindenburg Research LLC: (Hindenburg Research Kya hai)

हिंडनबर्ग रिसर्च क्या है, कहां है, इन सभी सवालों का जवाब आपको हम देने वाले हैं आपको बता दें हिंडनबर्ग रिसर्च कंपनी अमेरिका में स्थित न्यूयॉर्क शहर में कार्यरत मौजूदा समय में 9 लोगों की एक शॉर्ट सेलिंग की छोटी सी ग्रुप कंपनी है। अगर मोटे तौर पर कहे तो हिंडनबर्ग एक रिसर्च कंपनी ऐसी है, जो दूसरे कंपनियों को गड़बड़ियों को शार्ट ऑउट करता है। यानी यह कंपनी एक ऐसी संस्था है जो दुनिया भर के किसी भी कंपनियों की 6 महीने से लेकर 1 साल या 2 साल की एक बेहतरीन रिसर्च करती है लोगों की राय लेती है इंटरव्यूज लेती है सीक्रेट तरीके से जांच करती है। जिस भी कंपनी का पोल खोलना होता है जैसे मौजूदा वक्त में गौतम अडानी का कंपनी आज इस रिसर्च की खामियाजा भुगत रही है।

हिंडनबर्ग का स्थापना कब हुआ था

हिंडनबर्ग कंपनी का स्थापना 2017 में किया गया था जिसको आज लगभग 6 साल पूरे हो चुके हैं, नाथन एंडरसन ने इस कंपनी का स्थापना किया था जो पहले एक ऑटो ड्राइवर था जिसका काम था मरीजों को सही वक्त पर हॉस्पिटल पहुंचाना। उसके बाद उसने इस काम को छोड़कर ग्रेजुएशन की पढ़ाई की अमेरिका में ही पढ़ाई कंप्लीट हो जाने के बाद काफी रिसर्च किया और उसने अपनी कंपनी का नाम रखा हिंडनबर्ग और इस रिसर्च कंपनी को शुरू किया।

इस कंपनी में पहले 5 लोग एक बंद कमरे में काम किया करते थे जो बड़ी कंपनियों के खुफिया तरीके से रिसर्च करते हैं। और उन कंपनियों के द्वारा हो रहे गड़बड़ियों के बारे में खुलासा करना ही इनका कंपनी का मुख्य मकसद है। यह कम्पनी मुख्यत शार्ट सेलिंग से पैसे कमाती है। इसी तरह हिंडनबर्ग रिसर्च एलएलसी कंपनी का स्थापना हुआ है जिसको आज शुरू हुए लगभग 6 साल हो चुके हैं।

इस कंपनी में मौजूदा समय में 9 लोगों की टीम है जो पूरी दुनिया भर में चर्चित है हालांकि इसे पूरी दुनिया में अच्छा माना जाता है क्योंकि यह उन कंपनियों के गड़बड़ी के बारे में खुलासा करती है जो कंपनी अपने लोगों के आंखों में धूल झोंक के कई बड़े घपलेबाजी का काम करते हैं और इस कंपनी का यही मुख्य उद्देश है इनके घपलेबाज का खुलासा करना।

Trade nameHindenburg Research
Company TypePrivate
Founded इन2017; 6 years ago
Founder NameNathan Anderson
Hindenburg HeadquartersNew York City
Total Number of employees9 (2023)
Hindenburg official Websitehindenburgresearch.com.

Hindenburg Research नाम कैसे इसका पड़ा

काफी लोगों का यह भी सवाल होगा कि इसका नाम Hindenburg का मतलब क्या है। इसका नाम ऐसा क्यों है? तो आपको बता दें आज से लगभग 90 साल पहले इंसानों के द्वारा हिंडनबर्ग डिजास्टर नाम का एक यान बनाया गया जो इस मकसद से बनाया गया था कि इसमें एक ही साथ हजारों लोग टाइटेनिक की तरह सवार होकर स्पेस में यात्रा कर सकेंगे लेकिन वह मिशन उड़ने के बाद एक ही बार में धराशाई हो गया यानी पूरी तरह से बर्बाद हो गया।

जिसका नाम था हिंडनबर्ग डिजास्टर इस के नाम से यह मतलब निकलता है कि वह जिस तरह तैयार होकर बहुत बड़ा बना था और एक ही बार में पूरी तरह से बर्बाद हो गया।

हिंडनबर्ग रिसर्च एलएलसी इस कंपनी के काम का मकसद भी वही है जो अचानक से बहुत ऊपर अमीरों के लिस्ट चला जाता है। उसके बारे में यह कंपनी रिसर्च करती है, उसके गड़बड़ियों को ढूंढती है। और उसे बहुत कम समय में पूरी तरह से बर्बाद कर देती है इस कंपनी ने अब तक कई कंपनियों के खुलासे कर चुके हैं जिन कंपनियों के नाम नीचे दिए गए हैं इन कंपनियों के यह कुलासे कर उनको बताया कि यह अवैध तरीके से काम करके इतने आगे बढ़े हैं और इनका पूरा दोषी इसके मालिक ही है।

और यह कंपनी लगभग 3 से 4 महीने में पूरी तरह से बर्बाद हो गए जिन कंपनियों के नाम कुछ इस प्रकार से हैं।

  1. Adani Group 
  2. Nikola
  3. Clover Health
  4. Kandi
  5. Lordstown Motors

यह Hindenburg Research LLC बड़ी कंपनियों के Fraud और Malfeasance की रिपोर्ट तैयार कर खुलासे करती है जिसमे इन कंपनियों के नाम शामिल है।

शॉर्ट सेलिंग क्या है: What is Short Selling

शॉर्ट सेलिंग का मतलब है बिल्कुल साफ है कम समय में बेचना शॉर्ट सेलिंग का काम बहुत सारी कंपनियां करते हैं इनमें से सबसे मानी जानी कंपनी इंडियन वर्ग है यह कंपनी किसी भी बड़ी कंपनी को पकड़ती है और उसके कंपनी में चल रही तरह तरह की गड़बड़ियों को ढूंढती है उनके फ्रॉड को पकड़ती है इमानदारी से और लोगों के सामने अपने रिपोर्ट को रख देती है।

फिर क्या उस कंपनी का तो वही हाल होना है, जो वह कंपनी दूसरों के साथ चुपके चुपके से कर रही थी अब वह कंपनी शॉर्ट सेलिंग के चक्कर में पड़ जाती है यानी उनके जितने भी शेयर होते हैं उस सभी के सभी अचानक से डाउन हो जाते हैं। और यही शार्ट सैलिंग के लिए एक अच्छा मौका होता है।

जिसमें कम कीमतों पर शेयर्स को खरीद लेते हैं और बाद में कंपनी का धीरे-धीरे जैसे रिकवर होना शुरू होता है। तो शेयर के दाम बढ़ने लगते हैं फिर वह उनसे महंगे रेट पर बेचकर पैसा कमाते हैं शॉर्ट सेलिंग मतलब यही होता है लेकिन इनके रिपोर्ट गड़बड़ नहीं होते हैं इसीलिए यह जिस भी कंपनी का गड़बड़ी अगर पकड़ते हैं, तो जबरदस्त उस कंपनी का नुकसान करते हैं और अपने खूब फायदे करते हैं।

Hindenburg Research On Gautam Adani in hindi

हिंडनबर्ग कंपनी ने बताया है कि यह उनकी 2 साल की रिसर्च में खुलासा हुआ है कि अदानी ग्रुप की कंपनी जो पिछले 8 सालों में इतनी तेजी से आगे बढ़ी है। और दुनिया की सबसे बड़ी तीसरी कंपनी बन चुकी है इनके कारनामे क्या है कैसे काम चल रहा है। इन सभी चीजों के बारे में खुलासा कर हिंडनबर्ग ने 24 जनवरी 2023 के दिन इसके रिपोर्ट को अपने साइट पर पब्लिश किया जिसके बाद भारत के गौतम अदानी ग्रुप के सभी कंपनियों के शेयर ऐसे गिर गए मानो जैसे कंपनी में भूचाल आ गई।

  • हिंडनबर्ग वालों ने अपनी रिसर्च में अदानी ग्रुप के कंपनी पर 2 साल के रिसर्च और जांच के निष्कर्षों के पास यह सबूत अपना उन लोगों ने पेश किया है उन्होंने बताया है कि 17.8 ट्रिलियन रुपए का भारतीय समूह अडानी समूह 10 को से 20 रन स्टार्ट हेरफेर और लेखा धोखाधड़ी योजना में लगा हुआ है ऐसा हिंडोन वर्ग कंपनी का कहना है।
  • अमेरिकी हिंडनबर्गरिसर्च कंपनी ने बताया है कि इस कंपनी में कुल 22 प्रमुख कार्यकर्ता यानी पॉलिटिशियन हैं। जिनमें से आठ अडानी परिवार के ही सदस्य हैं जो मौजूदा समय में कंपनी में कार्यरत हैं और इन पर कई प्रकार के आरोप में पिछले गत वर्ष में लग चुके हैं। और उन आरोपों को या तो दबा दिया गया या फिर उस पर कोई और भी खेल खेल दिया गया है।
  • हिंडनबर्ग रिसर्च कंपनी ने गौतम अदानी पर यह भी आरोप लगाया है कि या कंपनी पहले चार प्रमुख सरकारी धोखाधड़ी जाटों का केंद्र भी रहा है। जिनमें money-laundering करदाताओं के धन की चोरी और भ्रष्टाचार का भी आरोप लगा है। जिसकी कुल कीमत 17 बिलियन अमेरिकी डॉलर में है आप समझ सकते हैं कि यह किताब बड़ा घोटाला है जो कंपनी ने इसके आयात और निर्यात के दस्तावेज को भी तैयार की है।
  • हिंडनबर्ग कंपनी रिसर्च का कहना यह है कि उन्होंने गौतम अडानी के भाई विनोद अडानी और उनके करीबी कई सारे सहयोगियों के द्वारा 38 कंपनियों का विदेशों में चलाना है और उन सभी संस्थाओं का हिंडोन वर्ग ने पहचान किया है जो साइप्रस यूएई सिंगापुर और कई कैरेबियाई द्वीपों में गुप्त तरीके से इसका संचालन हो रहा है जिसका नियंत्रण विनोद अदानी के द्वारा किया जाता है।
  • कुल मिलाकर अगर बात करें तो भैया अदानी ग्रुप देश के सभी गरीब जान के पैसों से और किसानों छोटे व्यापारियों के पैसों का जबरदस्त फायदा उठा कर बहुत ही बड़ा हेरफेर का काम चल रहा था मनी लॉन्ड्रिंग की काम चल रही थी ब्लैक मनी को वाइट मनी में बदला जा रहा था.
  • कई सारी ऐसी कंपनियां हैं. जिनका ना ही कोई रजिस्ट्रेशन है और ना ही कोई नाम बेनाम कंपनियां चल रही थी इनके कई कर्मचारी जो मुख्य कर्मचारी हैं उन पर कई सारे आरोप भी लग चुके हैं फिर भी वह इस कंपनी में प्रमुख अधिकारी के पद पर काम कर रहे हैं जिन पर Money-laundering हीरा ट्रेडिंग चोरी ऐसी तमाम तरीके के आरोप लग चुके हैं।

Note:- यह सभी आरोप अडानी के कम्पनी पर हिंडनबर्ग के द्वारा लगाया गया है। आगे इसका नतीजा क्या होगा आपको अपडेट किया जाएगा।

गौतम अडानी की कितनी कंपनियां है

गौतम अडानी की कुल 10 कंपनियां हैं जिनका लिस्ट आपको नीचे दिया गया है। Gautam Adani all company’s list

  • Adani Enterprises
  • Adani Green Energy
  • Adani Ports
  • Adani Power
  • Adani Wilmar
  • ACC Cement
  • Ambuja Cement
  • Adani gas
  • Adani Transmission
  • NDTV

गौतम अडानी की कितनी संपत्ति है: Gautam Adani Net worth in Indian Rupees

गौतम अडानी Net-Worth अमेरिकी डॉलर में 6190 करोड़ यूएसडी डॉलर है जो भारतीय रुपयों में 5 लाख 95 हजार करोड़ रुपए से अधिक होता है मौजूदा समय में गौतम अडानी की कुल संपत्ति मोटी मोटा तौर पर 600000 करोड रुपए हैं जिनमें अडानी की 1 दिन की कमाई 15000 करोड़ से लेकर 25000 करोड रुपए तक होती है। 5.95 Lakh Crore in Indian Rupees At Current Time, Gautam Adani net worth in billion $61.3 billion.

Hindenburg Report on Gautam Adani 2023

आप सभी युवाओं के लिए

Important:- यदि आप नौकरी करना चाहते हैं तो हर रोज सरकारी नौकरी का लेटेस्ट नोटिफिकेशन और रिजल्ट, एडमिट कार्ड, Answer Key, और सभी परीक्षाओं की जानकारी सीधे अपने मोबाइल पर पाने के लिए आप हमारे व्हाट्सएप ग्रुप और टेलीग्राम चैनल को सब्सक्राइब जरूर करें। धन्यवाद!

WhatsApp Group

Join our Telegram

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

Gautam Adani की कुल कितनी कंपनियां है?

Adani Enterprises
Adani Green Energy
Adani Ports
Adani Power
Adani Wilmar
ACC Cement
Ambuja Cement
Adani gas
NDTV
Adani Transmission

Gautam Adani today Net worth?

Gautam Adani today Net worth in Indian Rupees 5.96 lakh Crore and in USD $6190 Crore

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *